Chher-Chhera Doha – Cg Festival

सरसो फूले घमाघम भैया
मुनगा फूले सफेद रे,

बालक पन में केंवरा बधेंव
जवानी पन में भेंट रे।

सबके डउकी रिंगी चिंगी
मोर डउकी कुसवा रे

दू पइसा के डउकी लानेंव
उहू ल लेगे मुसवा रे।

ए पार नंदि ओ पार नंदि
बीच म कोदो खरही ग,
जाग-जागे सुतले बबा
तोर डोकरी हरही ग।

बात-बात म बात बाढ़े
पानी म बाढ़े धान,

तेल फूल म लइका बाढ़े
फोही म बाढ़े कान।

================

कोलकी-कोलकी बइला चराएंव
बइला के सींग म माटी

ठाकुर घर जोहारे ल गेंव
बुचवा हाड़ी म बासी

छेंकत रहेंव बइला भइया
चढ़ परेंव भांड़ी

भांड़ी ले कुद के भागेंव
त पाएंव जुच्छा हांड़ी।
—————————————–

छेरछेरा दाई छेरछेरा ….
कोठी के धान ला हेरतेच हेरा …..

Happy Chher-Chhera Fariends.
Jai Chhattisgarh.

Treading

#Chutkule

Padoshan Chutkula पड़ोसन - आपकी नई बहू कैसी है ? सास - बहुत मेहनत करती है, इतनी गर्मी में भी दिन-रात लगी रहती है, कैंडी क्रश के 452 लेवल पर पहुंच गई है। व्हाट्सएप पर 25 ग्रुप चलाती है, फेसबुक पर 5 हजार फ्रेंड और 10 हजार फॉलोवर हैं। 16 ग्रुप की एडमिन है और 36 पेज चला रही है। सोच रही हूं सुबह दूध के साथ बादाम देना शरू कर दूं और तरक्की करेगी।

More Posts